वर्ष 2021 का छत्तीसगढ़ बजट, प्रदेश में अब अंग्रेजी माध्यम 119 नये स्कूल बनेंगे ,शिक्षा के क्षेत्र में दिल खोल कर दिया बजट

रायपुर। छत्तीसगढ में २०२१ के बजट में भूपेश बघेल की सरकार ने शिक्षा के लिए दिल खोल कर अपना बजट दिया है, बजट के दौरान मुख्यमंत्री ने कहा है कि प्रदेश के युवाओं को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा दिलाने के लिए हम निरंतर प्रयाशरत हैं, प्रदेश में अंग्रेजी माध्यम के 119 नए शासकीय स्कुल स्वामी आत्मानंद के नाम से शुरू किए जाएंगे। वही राष्ट्रीय स्तर के बोर्डिंग स्कूल की स्थापना भी की जाएगी।

वर्ष 2021 का छत्तीसगढ़ बजट, प्रदेश में अब अंग्रेजी माध्यम 119 नये स्कूल बनेंगे ,शिक्षा के क्षेत्र में दिल खोल कर दिया बजट

रायपुर।छत्तीसगढ में २०२१ के बजट में भूपेश बघेल की सरकार ने शिक्षा के लिए दिल खोल कर अपना बजट दिया है, बजट के दौरान मुख्यमंत्री ने कहा है कि प्रदेश के युवाओं को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा दिलाने के लिए हम निरंतर प्रयाशरत हैं, प्रदेश में अंग्रेजी माध्यम के 119 नए शासकीय स्कुल स्वामी आत्मानंद के नाम से शुरू किए जाएंगे। वही राष्ट्रीय स्तर के बोर्डिंग स्कूल की स्थापना भी की जाएगी।

मुख्यमंत्री  भूपेश बघेल ने सदन में भाषण देते हुए कहा कि पर्यटन स्थल हसदेव-बांगों और सतरेंगा को अंतर्राष्ट्री य पर्यटन स्थल के रूप में विकसित किया जाएगा, बेमेतरा के गिधवा को ईको पर्यटन स्थल  के रूप में विकसित किया जाएगा, राम वन गमन परिपथ के तहत 30 करोड़ रूपये का प्रावधान किया  गया है, देवगुड़ी निर्माण के लिए 5 लाख रूपये तक अनुदान दिया जाएगा।


छत्तीसगढ़ बजट 2021-22 में स्वच्छता दीदियों के मानदेय को बढ़ाकर 5 हजार से 6 हजार कर दिया गया है।इसके अलावा पत्रकारों की आकस्मिक मृत्यु पर  सहायता राशि को 2 लाख से बढ़ाकर 5 लाख किया गया है, तृतीय लिंग के लिए 76 लाख की लागत से पुनर्वास केंद्र बनाए जाएंगे। मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने सदन में बजट भाषण में कहा कि 'मोर ज़मीन मोर मकान' के लिए 457 करोड़ का प्रावधान किया गया है।


वही मुख्यमंत्री  धरसा विकास योजना के लिए 10 करोड़ रूपये  का प्रावधान, राज्य के पुरातात्विक धरोहर के लिए अध्ययन संचालनालय का गठन किया जाएगा, पुरातत्व विभाग के पृथक संचालनालय का गठन किया जाएगा। इसके लिए 6 करोड़ का प्रावधान किया गया है।वही  छत्तीसगढ़ संस्कृति परिषद का गठन किया गया है, नया रायपुर में बनने वाला भारत भवन भोपाल की तर्ज पर बनाया जाएगा।


बजट भाषण में मुख्यमंत्री  भूपेश बघेल ने सदन में कहा कि ग्रामीण स्तर पर रूरल इंडस्ट्रियल पार्क लगाए जाएंगे, इसके अलावा स्टेट जीडीपी में वृद्धि हुई है, राजीव गाँधी न्याय योजना में 5703 करोड़ रुपये का प्रावधान किया गया है, चिराग योजना में 150 करोड़ का प्रावधान , सौर सुजला में 530 करोड़ का प्रावधान, गोधन न्याय योजना में 175 करोड़ रूपये, मत्स्य पालन को कृषि का दर्जा,और इस पर 171 करोड़ 20 लाख का प्रावधान किया गया है।

बजट में राज्य बीमा में 56 करोड़ का प्रावधान किया गया है , गोबर खरीदी के लिए 80 करोड़ का भुगतान किया जा चुका है, गौठान योजना के लिए 175 करोड़ का प्रावधान किया गया है, लाख पालन को भी कृषि के समकक्ष दर्जा दिया गया है, कोदो, कुटकी,रागी को समर्थन मूल्य में लिया जाएगा। सीएम ने कहा कि इस वर्ष 20 लाख 53 किसानों से 92 लाख मैट्रिक टन धान खरीदी की गई, जो छत्तीसगढ़ के इतिहास में सर्वाधिक है। चिराग योजना 2021—22 के बजट में 150 करोड़ का प्रावधान किया गया, अब तक 71300 क्विंटल कंपोस्ट खाद का निर्माण किया जा चुका है, प्रधानमंत्री  कृषि सिंचाई योजना और शाकंभरी योजना के लिए 123 करोड़ का प्रावधान, गौठानों को रोज्गारोन्मुखी बनाने के लिए हमारी सरकार लगातार काम कर रही है, चार नए बोर्ड बनाए जाएंगे। भूमिहीन श्रमिकों के लिए नवीन न्याय योजना की शुरुआत होगी।

मुख्यमंत्री  भूपेश बघेल ने  सदन में कहा कि बीता वर्ष  कोरोना की वजह से संकट और चुनौती भरा रहा है, मुझे बताते हुए गर्व हो रहा है कि हमने कोरोना के काल में मनरेगा के तहत मजदूरी देने में कीर्तिमान स्थापित किया है। जिसकी हमे सराहना भी मिली है। सीएम ने कहा कि हमने गोबर को गोधन बनाने की दिशा में 'गोधन न्याय योजना' की शुरूआत की है। हमारी इस पहल को भारत सरकार और अन्य राज्यों द्वारा सराहा गया है। सीएम ने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों में रूरल इंडस्ट्रियल पार्क की भी स्थापना की जाएगी, इसके अलावा सी-मार्ट स्टोर की स्थापना की जाएगी।